Sunday, May 24, 2009

कैसे करें फलाहार



फलों को हमेशा दूध के साथ ही खाना चाहिए। फलों को हरी सब्जियों (सलाड) के साथ नहीं खाना चाहिए। सूखे मेवे के साथ फल खाए जा सकते हैं। खाली पेट पर फलाहार करने से सबसे अधिक फायदा होता है। यदि आप भोजन के बाद फल खाना पसंद करते हों, तो आपको अधिक मात्रा में फल खाना होगा। यह भी ध्यान रखें कि जब पेट भोजन से भरा हो, तो फल उस पर अतिरिक्त भार डालेगा और इससे पाचन मुश्किल हो सकता है और आपको वायु आदि की तकलीफ हो सकती है। एक बार में केवल एक प्रकार का फल ही खाना चाहिए।

5 Comments:

राजेश चौधरी said...

बेहतरीन जानकारी सटीक अंदाज में देने के लिए धन्यवाद!

Nirmla Kapila said...

बडिया जानकारी के लिये धन्यवाद्

dhananjay mandal said...

फ़लहार को प्राय: उपवास से ही जोड़ कर देखते है , फ़लो का आहार फ़लाहर हर दिन होता है । प्रयोग विषयक जानकारी उपयोगी है ।..... धन्यवाद।

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...

जरा सी पोस्ट और कई मिथक तोड़े!

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

बहुत बढिया जानकारी दी आपने --
धन्यवाद -
-लावण्या

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट