Thursday, April 09, 2009

लोड मकोले उवाच

इसे पढ़कर जान लीजिए कि लोड मकोले कितने दूरदर्शी थे और वे अपनी नीति में कितने सफल हुए।

4 Comments:

Anil said...

यह संदेश मैं कई सालों से ईमेल पर फारवर्ड होते देख रहा हूँ। इसकी अहमियत महज एक "ईमेल फारवर्ड" से कहीं अधिक है। इसे एक विडंबना ही कहा जायेगा कि वह संदेश जिस भारतीय भाषा में लिखा हुआ था, उसे मैं पढ़ना नहीं जानता। अंग्रेजी में ही पढ़कर समझ में आया।

cmpershad said...

अंग्रेज़ इस साजिश में कामयाब हो गए और हमारे नेता अभी भी उन्हीं की चाल पर चल रहे हैं। हम अपनी राष्ट्रभाषा को भी राजनीति के गंदे कीचड में डाल चुके हैं।

बालसुब्रमण्यम said...

अनिल जी, चित्र में ऊपर जो लिखा है, वह तमिल में है। उसमें मकोले की टप्पणी का अनुवाद नही है, बल्कि उसकी भूमिका है। उसमें मकोली का परिचय दिया गया है।

संगीता पुरी said...

लिंक के लिए धन्‍यवाद।

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट